योनिव्यापद विभिन्न आचार्य मतानुसार – BAMS 3rd year (Gynaecology)

योनिव्यापद की संख्या सभी आचार्यो ने २० ही मानी है। योनिव्यापद को आचार्यो ने दोषो के आधार पर विभिन्न संख्या में बाटा है। यहाँ योनिव्यापद के भेदो की एक तुलनात्मक एवं सरल तालिका दी जा रही है। जिससे छात्र छात्रएं सरलता से अध्यन कर सके। दोष चरक सं. सुश्रुत सं. Read more…